Videók TOP - Magyar és külföldi zenei videók
Köszöntelek
Belépés / Regisztráció

जान पर खेलकर बचाई 40 दिनों की बच्ची की जान ! Saved a 40-day-old girl's life by playing on her life !

Loading...

Thanks! Share it with your friends!

URL

You disliked this video. Thanks for the feedback!

Sorry, only registred users can create playlists.
URL


Hozzáadott Admin a
2,348 Megtekintés

Leírás

हमारे चैनल knowledge pillar को जरूर सब्सक्राइब करें !!


केरल के कन्नूर से तिरुअनंतपुरम के बीच की दूरी तय करने में कम से कम 13 घंटे का वक्त लग जाता है।

नई दिल्लीः एक माह की बच्ची की जान बचाने के लिए एक टैक्सी ड्राइवर ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए असंभव काम को भी संभव बना दिया। केरल के एक ड्राइवर ने 500 किमी की दूरी केवल 7 घंटे में तय कर दी। आपको जानकर यह हैरानी भी होगी, आमतौर पर केरल के कन्नूर से तिरुअनंतपुरम के बीच की दूरी तय करने में कम से कम 13 घंटे का वक्त लग जाता है। लेकिन, यहां मामला एक छोटी बच्ची की जान से संबंधित था तो इस टैक्सी ड्राइवर ने वो काम किया। जो दूसरे ड्राइवर में शायद ही कर सकते थे।

हालांकि, यहां गौर करने वाली ये भी है कि तारीफ का काबिल केवल टैक्सी ड्राइवर ही नहीं बल्कि सामाजिक कार्यकर्ता और लोकल पुलिस भी है। जिन्होंने बखुबी तौर पर समय-समय पर रास्ते को क्लियर कराने की भरपूर कोशिश की। तभी जाकर एक माह की छोटी बच्ची अस्पताल समय पर पहुंच सकी।

क्या है मामला

दरअसल 1 माह की छोटी बच्ची फातिमा लाबिया दिल की बीमारी से ग्रस्त है। जिसे इलाज के लिए कुन्नूर के परियाराम मेडिकल कॉलेज से तिरुअनंतपुरम के श्री चित्रा तिरुनल इंस्टिट्यूट फॉर मेडिकल साइंस एंड टेक्नोलॉजी में रेफर किया गया था। जहां फातिमा को हार्ट सर्जरी के लिए ले जाना था। वहीं उसे एयर एंबुलेंस से नहीं ले जाया सकता था क्योंकि यह संभव नहीं था। इसलिए केरल पुलिस और एनजीओ की मदद से उसे रोड से ही ले जाया गया। इसके लिए पूरे रास्ते को ग्रीन कोरिडोर में भी तब्दील किया गया था।

कैसे ड्राइवर ने किया ये काम

पहले ड्राइवर तमीम को यह काम असंभव लगा लेकिन जब सबने समझाया तो वह तैयार हो गया। इसके बाद बुधवार 15 नवंबर की रात 8.30 बजे ड्राइवर तमीम एंबुलेंस में बच्ची को लेकर कुन्नूर से चल पड़े। इस दौरान पूरे रास्ते में लोकल एनजीओ और पुलिस ट्रैफिक को क्लियर करवाते रहे। इस दौरान एंबुलेंस कहीं भी नहीं रुकी। ड्राइवर ने बताया कि हम लोग सिर्फ कोझीकोड में तेल भरवाने के लिए रुके थे। वहीं अगली सुबह करीब 3.23 मिनट पर हम तिरुअनंतपुरम के श्री चित्रा तिरुनल इंस्टिट्यूट फॉर मेडिकल साइंस एंड टेक्नोलॉजी पहुंच गए।


It takes at least 13 hours to cover the distance between Kannur to Thiruvananthapuram in Kerala.

New Delhi: To save the life of a month old girl, a taxi driver made the impossible task possible by setting the example of humanity. A driver from Kerala covered a distance of 500 km in just 7 hours. It would be surprising to know you as well, it usually takes at least 13 hours to cover the distance between Kannur to Thiruvananthapuram in Kerala. But, here the matter was related to the life of a small girl, then this taxi driver did that work. Which could hardly do in another driver.

However, it is also worth noting that not only the taxi driver, but also the social workers and local police are well deserving of praise. Who brilliantly tried to clear the road from time to time. Only then a month old little girl could reach the hospital on time.

What is the matter

Actually 1 month old baby girl Fatima Labia is suffering from heart disease. Which was referred from the Paryaram Medical College, Coonoor for treatment at the Sri Chitra Thirunal Institute for Medical Science and Technology in Thiruvananthapuram. Where Fatima was to be taken for heart surgery. At the same time, he could not be transported by air ambulance because it was not possible. So with the help of Kerala Police and NGO, he was taken from the road itself. For this the entire route was also converted into Green Corridor.

How did the driver do this job

At first, Tamim, the driver, found it impossible but when everyone explained, he agreed. After this, at 8.30 pm on Wednesday 15 November, the driver left from Coonoor with Tamim in an ambulance. During this, local NGOs and police kept clearing the traffic all the way. During this time the ambulance did not stop anywhere. The driver told that we stayed only to fill oil in Kozhikode. At about 3.23 minutes the next morning we reached Sri Chitra Tirunal Institute for Medical Science and Technology in Thiruvananthapuram.

SZÓLJ HOZZÁ

Komment

Be the first to comment
RSS